छुअन याद बा

 पहिल फागुन के हमरा छुअन याद बा
फूल - भंवरा के हमरा मिलन याद बा।

केहु कनेआ कहल केहु भउजी कहल
कुल्ह बालम के घर के चलन याद बा।

हमके कोयल के बोली ना बिसरी कबो
हमरा सरदी के भोर के गलन याद बा।

कहियो चूल्हवा में अंगुरी सेंकाइल रहे
आजु ले हमरा ओकर जलन याद बा।

याद बा हमके ननदो के नखड़ा कइल
हमके गोदी में आइल ललन याद बा।

टिप्पणियाँ

लोकप्रिय पोस्ट

मुखिया जी: उमेश कुमार राय

मोरी मईया जी

जा ए भकचोन्हर: डॉ. जयकान्त सिंह 'जय'