संदेश

2022 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

भोजपुरी: प्रतिभासाली, मेहनती आ ईमानदार लोगन के भासा - संदल एस अंशु

चित्र
 संबिधान के आठवीं अनुसूची में सामिल करे खातिर बहुत लम्बा समय से माँग उठ रहल बा आ संघर्स चल रहल बा। एह जायज माँग के पूरा करे खातिर अबहीं तक त कवनो प्रभावी कदम नाहियें उठावल गइल बा। ई बड़ी दुःख के बात बा। चुनाव के समय में सभ पाटी के लोग असवासन देवेला कि सत्ता में अइला के बाद एह दिसा में काम कइल जाई बाकिर बाद में होला कुछुओ ना। बिदवान लोगन के अनुसार भोजपुरी एगो आर्य भासा ह। मुख्य रूप से ई पच्छिमी बिहार आ पुरुबी उत्तर परदेश में बोले जायेवाली भासा ह।बाकिर एकर प्रसार अदभुत बा। ई सौंसे दुनिया में बोले जाए लागल बिया। अब ई अंतर्राष्ट्रीय भासा बन गइल बिया। फिजी, सूरीनाम, मॉरीशस, गुयाना, टोबैगो, त्रिनिदाद आदि कई गो देसन में ई एकर प्रसार देखल जा सकेला। हमरा ई कहे में कवनों गुरेज नइखे कि भोजपुरी बोलेवाला लोग काफी प्रतिभासाली, मेहनती आ ईमानदार होखेला। ऊ लोग अपना एही गुणन के बल प कतहूँ धाक जमा लेवेला। अपना एही गुणन के कारन भोजपुरी भासी लोग के बिस्तार दुनिया के लगभग सभ भाग में हो गइल बा आ दिनेदिन ई बिस्तार अउरी तेजी पकड़ रहल बा। एह भासा के बोलेवाला लोगन के ई खासियत ह कि ऊ लोग जहाँ भी जाला त अपना ब

जेने देखीं ओनिए झोल: हरेश्वर राय

चित्र
जेने देखीं ओनिए झोल। सहर गाँव के नदी नाव के तरजुई के सेर पाव के बिगड़ल बाटे बोली बोल। नेता लफाड़ी पंच खेलाड़ी मरदे मेहरारु चतुर अनाड़ी सभे पहिरले बड़ुए खोल। हरेश्वर राय, सतना  

जिअते काम-किरिया सपरावे के प्रवृत्ति माने 'अभिनंदन ग्रंथ' के बहाने आत्म-तर्पण: विष्णुदेव तिवारी

चित्र
आजु-काल्ह भोजपुरी दुनियाँ में ' अभिनंदन  ग्रंथ' के चलन बढ़ रहल बा। एमे दाम, जिनका के अभिनंदित कइल जाला, ऊ लगावेले आ आलोचना वगैरह के काम उनकर हसबखाह लोग करेला। कुछ लोग लाजहूँ-लेहाजे आ कुछ लोग डरहूँ अभिनंदित होखे वाला साहित्यकार के व्यक्तित्व आ कृतित्व पर कलम रगरेला। जिअता साहित्यकार के ख़िलाफ़ ज़ल्दी केहू कलम ना उठावे आ अगर उठा ले, त ओकरा प आफते आइल समझीं। मुस्टंडन के गिरोह एकवट के सच्चाई कहे वाला ईमानदार महाराज जी के हुलिया अस बिगार दीही कि उनका के आपन मेहरारू के अलावा शायदे केहू दोसर पहचान पाई! आलोचना ठकुरसोहाती ना ह। आलोचना माने खाली दोषो-दर्शन ना ह, बाकिर खाली प्रशस्तियो-गान त ना ह। ' अभिनंदन  ग्रंथ' के प्रकाशन भा 'अमृत महोत्सव' के छपासन कवनो संस्था के देख-रेख में, जेमे अभिनंदित-वंदित साहित्यकार के दख़ल ना होखे, होखे त' ममिला ठीक हो सकत बा बाकिर मए गूर-गोइँठा अपने कपारे आ लिलारे चंदन ख़ातिर हाथ पसारे? अंदाजा लगावल जा सकत बा कि चंदन ख़ातिर आतुर साहित्यकार महाराज के साहित्यिक हैसियत कवना पहाड़े अड़ल होई! सम्प्रति: विष्णुदेव तिवारी, बक्सर, बिहार

डॉ. कमलेश राय के लोकप्रिय काव्य-संग्रह 'अइसन आज कबीर कहाँ': एगो अध्ययन - विष्णुदेव तिवारी

चित्र
आज ओइसन कबीर नइखन जइसन कबीर कबो रहले। ई अचरज के बात नइखे, कवनो अनहोनी के बात नइखे काहें कि सृष्टि में दोहराव ना होला। दोहराव ध्वंस में होला, सृजन में ना। ओइसन कबीर आज नइखन, माने आज के लोगन में केहू कबीर अस नइखे। जब दरसन, चिंतन आ करतब पच्छिम होखे, तब पूरब के कबीर कइसे होखल जा सकत बा? सब आपन-आपन लेके बइठल बा, आपन-आपन रो रहल बा। एह रोवनिया लोगन में कबीर के खोजल बेकार बा। कबीरो अपने खातिर रोवत रहले बाकिर उनकर आपन सब उहे रहे, जेकरा के दुनिया दोसर कहेले- अपना खातिर लोर बहुत बा औरन   खातिर   पीर  कहाँ जग  के  दुख कारन जे रोवे अइसन  आज कबीर  कहाँ ' अइसन आज कबीर कहाँ ' के गीतकार डॉ. कमलेश राय के अनुभूतियन में संवेदना के जवन चटक रंग घोराइल बा आ उनका गीतन में उगल बा, ऊ चहुँ ओर क्षरण से जामल वेदनउग चिंते के टभकन ह- व्यथित मन जब तिलमिलाये आह हिय में ना समाये बेकली के पार जाके वेदना जब तमतमाये तू अनासे उतरि आवेलू कवित पुनीत बन के सुरति के संगीत बन के। बाकिर ' अइसन आज कबीर कहाँ ' चिंता-काव्य ना ह। चिंता बा, उजबुजहट बा, छटपटइनी बा। एकर कारन बा। कारन के निवारनो बा आ निवारन के उपाइयो

फागुन में नाचल: उमेश कुमार राय

चित्र
हंसि हंसि क बहार उतान भईल, अगराई के फाग जब फागुन में नाचल। फगुआ के जब आगुआन भईल, अबीर-गुलाल आपना सुघर भाग पे नाचल। बबुआ-बुचिया के जब रंग रंगीन भईल, फिचकारी के संग उछल- कुद के नाचल । बुढा-जवान के भेद सभ भुल गईल, फागुन फगुआ के जब मधुर तान पर नाचल। आपन-आन के सब ध्यान गईल, जब बैर तेज के सब केहु गले मीली नाचल। उमेश कुमार राय ग्राम+पोस्ट- जमुआँव थाना- पिरो जिला- भोजपुर, आरा (बिहार)

भकुआइल बानी: हरेश्वर राय

चित्र
ना काड़ा ना गुलगुल ढेंसराइल बानी चौराहा प चहुँपि के चोन्हराइल बानी ना केहू आगहीं लउकत बा ना पाछा केने जाईं का करीं भकुआइल बानी। हरेश्वर राय, सतना, म.प्र.

होली: उमेश कुमार राय

चित्र
अवध बीचे, होली खेलत रघुवीर। सखिया सब अबीर लेई खोजत, रामाई लुकाये सरजू तीर। अवध बीचे, होली खेलत रघुवीर। हनुमान पिचकारी रंग डारे, भरत भुआल डाले अबीर। अवध बीचे, होली खेलत रघुवीर। कोशिला केकई मुशुकी छांटत , राजा दशरथ बड़न धीर गंभीर। अवध बीचे, होली खेलत रघुवीर। लखन लाल बचाव में लागल , सुमित्रा के डेरावत राम के फिकीर। अवध बीचे, होली खेलत रघुवीर । उमेश कुमार राय ग्राम+पोस्ट- जमुआँव थाना- पिरो जिला- भोजपुर, आरा (बिहार)

ना रहीत: हरेश्वर राय

चित्र
रहीत ना आलू त समोसा ना रहीत रहीत ना मुँह पेट त ढोसा ना रहीत। रामजी ना जइतन तड़िका के बधे त रहीत ना बकसर चौंसा ना रहीत। बाबा- दादी नाना- नानी ना रहीतन त मइया मउसी आ मौसा ना रहीत। बाढ़ि ना रहीत आ चुनाव ना रहीत त रहीत ना लूटपाट भौसा ना रहीत। बिधना के खेल त बहुते निराला बा रहिति ना मेहरि मुँहझौंसा ना रहीत। हरेश्वर राय, सतना, म.प्र.

फगुआ: उमेश कुमार राय

चित्र
भरs फागुनs ए भईया हमार हो। देद भऊजी के हमनी कै उधार हो।। लालs पिअरs गुलालs हरियर लगाईब, आहे! मजाक करबs जा बरियार हो। देद भऊजी के हमनी के उधार हो।। आसs पड़ोसs के भईया सब मिलब, आहे! रंगवा में देबs जा चभोर हो। देद भऊजी के हमनी के उधार हो।। चुनरs रंगs बिरंगs सब होई जईहे, आहे! होईहे फरेबवा सब अनेर हो। देद भऊजी के हमनी के उधार हो।। उमेश कुमार राय ग्राम+पोस्ट- जमुआँव थाना- पिरो जिला- भोजपुर, आरा (बिहार)

नीक लागेली: हरेश्वर राय

चित्र
दाढ़ी देसी ना बिदेसिए नीक लागेली साड़ी देसी ना बिदेसिए नीक लागेली बिदेसिए कुत्ता आ जूत्ता के पूछ बाटे गाड़ी देसी ना बिदेसिए नीक लागेली। हरेश्वर राय, सतना, म.प्र.

हकीकत: उमेश कुमार राय

चित्र
खोरी झार बहारी के का करबs, जब घर दुआरे कंजास भरल खूब सज संवर के का करबs, जब मन मनदिर में कलेश भरल। आन के बुझारत अब का करबs, जब अपने काना फुंसी में बाड़ फंसल। राम रहीम के पुज के का करबS, जब अपने हीक भर पाप में बाड़ धंसल । जानी के लोक परलोक के का करबS, जबकि आस पड़ोस के ना जनल। सकल समाज के भलाई का करबS, जबकि अपने परिवार कुछ ना जनल। उमेश कुमार राय ग्राम+पोस्ट- जमुआँव थाना- पिरो जिला- भोजपुर, आरा (बिहार)

तेले नइखे: हरेश्वर राय

चित्र
तीसी का करी जब तेले नइखे दीया का जरी जब तेले नइखे तेल के खेलि दइबो ना जनिहें बाती का बरी जब तेले नइखे। हरेश्वर राय, सतना, म.प्र.

ई किरिया ह: उमेश कुमार राय

चित्र
आखिर ई त हउए किरिया। का इहे हउए राउर किरिया ? संसद के ना कबो चले दिहल विकास के संउसे फंड खईलs तबो कबो ना डेकार लिहलs कहाँ गईल संविधान किरिया आखिर ई त हउए किरिया। नयका अपराध के ढंग बनवलs बचे खातिर हर उपाय सजवलs छल - परपंच से बेगुनाह बनलs कहाँ गईल गीता-कुरान के किरिया आखिर ई त हउए किरिया। घूस से आपन घर - बार बनल क्रप्शन से आपन परिवार सजल ईनसाफ के मजाक खूबे उड़ल कहाँ गईल वर्दी आ फर्ज के किरिया आखिर ई त हउए किरिया। जब जीव सांसत में पड़ जाई सग्गी भी मुंहवा फेर जाई हर बचाव के उपइया टर जाई ईमान-धरम जब तरजुई चढ़ जाई तब जी-डाठी दे खाईला किरिया आखिर ई त हउए किरिया। उमेश कुमार राय ग्राम+पोस्ट- जमुआँव थाना- पिरो जिला- भोजपुर, आरा (बिहार)

हमके ना बुझाइल: हरेश्वर राय

चित्र
कतने दिवाली अइली गइली, हमके ना बुझाइल हम कतने मरीचा खा गइलीं, हमके ना बुझाइल बचपन- जवानी के मजा किनारी काट लिहलस कब चुप्पे बुढ़ौती आ गइली, हमके ना बुझाइल। हरेश्वर राय, सतना, म.प्र.

तिरंगा: उमेश कुमार राय

चित्र
बलिदानियन के शान ह तिरंगा देशवासी के गुमान ह तिरंगा देशवा के पहचान ह तिरंगा जवानन के अभिमान ह तिरंगा। कवियन के मधुर गान ह तिरंगा खेलाड़ी के विजय भान ह तिरंगा गवईयन के सरगम तान ह तिरंगा शहादत के शौर्य बखान ह तिरंगा। देश के काम के अगुआन ह तिरंगा माँ भारती के माथे प चान ह तिरंगा करम योगी के अभियान ह तिरंगा सभे महानो में महान ह तिरंगा। उमेश कुमार राय ग्राम+पोस्ट- जमुआँव थाना- पिरो जिला- भोजपुर, आरा (बिहार)

खतम बा: हरेश्वर राय

चित्र
  बसंत के बहार खतम बा नदिया के धार खतम बा मन में भरम जिंदा बड़ुए पाँख के संसार खतम बा। हरेश्वर राय, सतना, म.प्र.

आनंदे साहित्य के संजीवनी ह: डॉ. ब्रजभूषण मिश्र के आलोचना कर्म पर एगो नज़र- विष्णुदेव तिवारी

चित्र
भोजपुरी आलोचना में, अपना सहृदयता, तटस्थता, विधि-निषेध सम्मत विनयशीलता, वैज्ञानिकता आ सहज सरलता ख़ातिर ख्यात, डॉ. ब्रजभूषण मिश्र के योगदान महत्वपूर्ण बा। उनकरा आलोचना के आधार कृति बा, कृतिकार के जाति, धर्म, विचारधारा आ परवरिश ना। ऊ जतना सहृदयता से गुलरेज शहजाद के कृति चंपारन सत्याग्रह-गाथा पर 'उहे भूमि बाटे चम्पारन' शीर्षक से बात करेलन ओतने सहृदयता से अरुण त्रिपाठी 'अशेष' रचित 'प्रेमायन' पर 'प्रेमायन: रामकाव्य परंपरा में भोजपुरी के अवदान' शीर्षक से बतियावे लन आ बिना आपन कवनो विचार बोवले, रचयिता लोगन के कृतियन तक पहुँचे के सुंदर राह देखा देलन। रुचिकर आ प्रसंगानुकूल भाषा के प्रयोग से मिश्र जी के आलोचना में शास्त्रीय गरिमा के निर्वाह भइल सुखद लागेला। 'प्रेमायन' के आलोचना के क्रम में ऊ लिखत बाड़े- "कवनो महाकाव्य खातिर ओह में महत् उद्देश्य भइल जरुरी होला। महाकाव्य अपना पूर्वर्ती युग के अध्ययन करेला, वर्तमान के निरखेला आ भविष्य के पूर्वासित करेला, काहे कि ओकरा अपना दा़यित्व के ज्ञान रहेला आ समसामयिक समाज के उन्नति के महान उद्देश्य ओकरा सोझा होला। &

बाकुड़ों की बलिदानी: उमेश कुमार राय

चित्र
ठंडा खुनवा भी छनहीं में उबली-गरमाई। सुतल गुमान छनही में अउजाई-अकुलाई। फाँसी-गोली अब रउरा नजरी प नचिहे, भगत-आजाद के जसहीं याद झीमीलाई। हाहाकार अउर भगदड़ शत्रुदल में भईलन। जब टाप के सुर तेगा-तलवार से मिललन। गंगा माई कटल बांह बाकुड़ा के थाम लेली, कुंवर सिंह तब आजादी साथ नाम जुड़लन खोरिया में लोगन के बतकुचन अगराईल । बतिया के छिंउकी से खुशी हकाईल। नयका सबेरवा जयहिन्द से गुंजे लागल , हाथ में तिरंगा जयघोष साथे सवाराईल । लक्ष्मी,नाना, सुभाष के लोगवा बिसारल। संघर्ष काल की कृति आजादी बाद बगादल महल-अटारी से ऊँचा आपन शान करके, ईमान,रीति,नीति के छनिक लोभे हेरावल। अकिल के नकल प बा सभे केहु अझुराईल। सत्य-अहिंसा सब नेताजी लोग भुलाईल। अंजू-पंजू मिल देश के खिल्ली उड़ावस। देख राजघाट से गाँधीजी के मती हेराईल। उमेश कुमार राय ग्राम+पोस्ट- जमुआँव थाना- पिरो जिला- भोजपुर, आरा (बिहार)

दिवलिया प: हरेश्वर राय

चित्र
हमार निकलल देवाला दिवलिया प भइली बगली कंगाल कनबलिया प हार मेहरी के महंगा किनाइल असों माल बाकी बिगाइल ओठललिया प। हरेश्वर राय, सतना, म.प्र.

हरजाई: उमेश कुमार राय

चित्र
खखोरी जस खखोर देल काहे अझुरा के। कुकूर जस भभोर देल चिकन बतिया के।। निरखेल अईसन जईसे शेर हिरनवा के। नीति चाणक्य जसन देल ग्यानवा के।। हमके भोरा देल खराब सपनवा बना के। खोभेल हरदमे बतिया के बरछी बना के।। पिरितिया के रीतिया रउआ उलटे बना के। मुकर गइनी काहे सातो बचनवा भोरा के।। उमेश कुमार राय ग्राम+पोस्ट- जमुआँव थाना- पिरो जिला- भोजपुर, आरा (बिहार)

नसा: हरेश्वर राय

चित्र
नसा देसी के होखे भा चालानी के होखे नसा सूट के होखे भा सेरवानी के होखे नसा कुछो के होखे उतरहीं के बा ओके नसा सूरत के होखे भा जवानी के होखे। हरेश्वर राय, सतना, म.प्र.

भोजपुरिया माटी: उमेश कुमार राय

चित्र
भूमण्डल यश गावे पताखा उड़ल आकाश, ओह भोजपुरियन के पावन देखी माटी। मां भारती शान से ईठलइली जेकरा पर, उपजल उ फूल जेकर सुगंध देखी खाटी। पहिलका इन्कलाबी भारती के फाड़ा में, जेकर अमर गाथा बनल स्वाभिमानी। अमर कुर्बानी जेकर अमीट पहचान में, जे रहल वीर कुंवर सिंह अमर बलिदानी। स्वतंत्रता के अविराम अलख जगा के, भारती के बेटन के देलन अमर कहानी। अंग्रेजन के खदेड़े के जुनून पैदा कर के, गढ़ देलन स्वतंत्रता के जोशीली कहानी। ईमानदारी, समर्पण, कर्तव्यनिष्ठा के मूर्ति, प्रतिभा जेकर सदा रहल परम अनुगामिनी। डाॅ0 राजेन्द्र प्रसाद भइलन प्रथम राष्ट्रपति, जना भोजपुरिया माटी में बांका अभिमानी। भोजपुरी भाषा के ध्वज जे फहरवलस, सरस्वती जेकर जिह्वा प सदा निवासिनी। भिखारी ठाकुर जेकर नाम अमर भईल, ऊ भोजपुरिया के माटी के सच्चा ग्यानी। सुरसंगम की सप्तधारा अंगुलियो में समाई, श्वांसो में मधुर संगीत धारा के प्रवाह बहल। विशमिल्ला सहनाई वादक विश्व विख्यात, उ भोजपुरिया माटी के रतन अनमोल रहल। विलक्षण प्रतिभा-बुद्धि के मालिक रहे, गणित की अबुझ पहेलियां सुलझावे वाला। बशिष्ठ नारायण विश्वविख्यात गणितग्य, भोजपुरिया माटी के सम्मान बढ़ावे वा