भछि जाईं गरीबवन के रासन पिया: हरेश्वर राय

अब का करे के बाटे जोगासन पिया
रउरा मुठी में आइल परसासन पिया।

मुखिअइया मिलल बा बड़ी भागि से
एगो चनिया के लेलीं सिंघासन पिया।

मनsरेगवा करोनवा के माल चांप लीं
भछि जाईं गरीबवन के रासन पिया।

अब सफारी कीनीं धुरि उड़ावत चलीं
पीहीं कोटवा के सरबे किरासन पिया।

रोज कलिया दुकलिया के इज्जत लूटीं
रउआ संचहूं के बनिके दुसासन पिया।
हरेश्वर राय, सतना, म.प्र.

टिप्पणियाँ

लोकप्रिय पोस्ट

मुखिया जी: उमेश कुमार राय

मोरी मईया जी

जा ए भकचोन्हर: डॉ. जयकान्त सिंह 'जय'

भोजपुरी कहानी का आधुनिक काल (1990 के बाद से शुरु ...): एक अंश की झाँकी - विष्णुदेव तिवारी

डॉ. बलभद्र: साहित्य के प्रवीन अध्येता - विष्णुदेव तिवारी