चलs अंखियां चार करीं जा: हरेश्वर राय



चलs अंखियां चार करीं जा
चलs इचिका प्यार करीं जा।

भंवरा हम, तू बनs सुमन
बाग चलs गुलज़ार करीं जा।

नौका तू, पतवार बनीं हम
मिलके दरिया पार करीं जा।

हम चंदा, तू चंद्रप्रभा बन
अंधियारा पर वार करीं जा।

हम दीया, तू बाती बनके
उजियारे उजियार करीं जा।

हरेश्वर राय 
प्रोफेसर ऑफ़ इंग्लिश 
शासकीय पी. जी. महाविद्यालय सतना 
सतना मध्य प्रदेश 

टिप्पणियाँ

लोकप्रिय पोस्ट

मुखिया जी: उमेश कुमार राय

मोरी मईया जी

जा ए भकचोन्हर: डॉ. जयकान्त सिंह 'जय'

भोजपुरी कहानी का आधुनिक काल (1990 के बाद से शुरु ...): एक अंश की झाँकी - विष्णुदेव तिवारी

डॉ. बलभद्र: साहित्य के प्रवीन अध्येता - विष्णुदेव तिवारी