भजु रे मन भलुनी भवानी: हरेश्वर राय

नीयराइल बा फेर से चुनाव
भजु रे मन भलुनी भवानी।
कउअन के होई कांव कांव।।भजु...।।

पांच बरीस प साजन अइहें
संगे संगे गोधन के ले अइहें
गांवें- गांवें होई मन- मोटांव।।भजु...।।

गर में गेना के माल पहीरले
धोतीखूंटा के जेबी में डरले
फेंकरत फिरीहें गांवें- गांव।।भजु...।।

कबो धुआं जस मुंह बनइहें
आपन जूत्ता अपनहीं खइहें
चलत रहीहें नया नया दांव।।भजु...।।

जीतीहें जइहें फेरू ना अइहें
लूटीहें कूटीहें आ पीहें खइहें
पूछीहें कब्बो ना नांव- गांव।।भजु...।।
हरेश्वर राय, सतना, म.प्र.

टिप्पणियाँ

लोकप्रिय पोस्ट

मुखिया जी: उमेश कुमार राय

मोरी मईया जी

जा ए भकचोन्हर: डॉ. जयकान्त सिंह 'जय'