मार बढ़नी रे: हरेश्वर राय

 मार बढ़नी रे! कइसन देसवा के चरितर बा
दू कौरा भीतर ओकरा बाद देवता पितर बा।

अपना अपना जतिया पर सभ के घमंड बा
बहे संड़की प खून उड़त मंच से कबूतर बा।

भेदवा लबेदवा के मान खूबिए बढ़ल बड़ुए
सइयक गो सवाल बड़ुए एकहूं ना उत्तर बा।

लइका आ लइकी में फरक करत बाबू माई
दुलहनिया अठारह के आ दुलहा बहत्तर बा।

दाम ज्ञान के गगरिया के फूटल छदाम बाटे
मान कदर ओकर बा जे फूटल कनस्तर बा।
हरेश्वर राय, सतना, म.प्र.

टिप्पणियाँ

लोकप्रिय पोस्ट

मुखिया जी: उमेश कुमार राय

जा ए भकचोन्हर: डॉ. जयकान्त सिंह 'जय'