जिनिगिया अजबे खेल खेलावे।

जिनिगिया अजबे खेल खेलावे।
जिनिगिया अजबे खेल खेलावे।

कबहूं बेटा कबहूं  परनाती कबहूं बाप बनावे
कबहूं छप्पन भोग खिआवे कबहूं  नून चटावे
कबो मुआवे कबो जिआवे कबो कबो तड़पावे
जिनिगिया अजबे खेल खेलावे।

कबो चढ़ावे सिकहर  ऊपर कबो उतारे पानी
कबहूं देवे महल अंटरिया  कबहूं चूवत छानी
कबो उठावे कबो  गिरावे कबो कबो ठठरावे
जिनिगिया अजबे खेल खेलावे।

आपन कबो पराया होले कबो  पराया आपन
कबो गले में फूल के माला कबो गले में नागन
कबो हंसावे कबो रोआवे कबो कबो छछनावे
जिनिगिया अजबे खेल खेलावे।

टिप्पणियाँ

लोकप्रिय पोस्ट

मुखिया जी: उमेश कुमार राय

मोरी मईया जी

जा ए भकचोन्हर: डॉ. जयकान्त सिंह 'जय'