ओठे पंखुरी साटि गईल: हरेश्वर राय

कि अब बदरी
फाटि गईल।

अइले दुअरा
बलम बसंत
पसरल आसा
खुसी अनंत

पीयर चुंदरी
बांटि गईल।

झमक झमक
आइल पुरवाई
अंकवारी ले
आखर ढाई

ओठे पंखुरी
साटि गईल।
हरेश्वर राय, सतना, म.प्र.

टिप्पणियाँ

लोकप्रिय पोस्ट

मुखिया जी: उमेश कुमार राय

मोरी मईया जी

जा ए भकचोन्हर: डॉ. जयकान्त सिंह 'जय'