त केहू के हंसी आवता: हरेश्वर राय

 केहू के मकान गिरता, त केहू के हंसी आवता
केहू के दोकान जरता, त केहू के हंसी आवता
अदिमिन के अंदरा के अदिमियते मू गइल बा
केहू के अरमान जरता, त केहू के हंसी आवता।
हरेश्वर राय, सतना, म.प्र.

टिप्पणियाँ

लोकप्रिय पोस्ट

मुखिया जी: उमेश कुमार राय

मोरी मईया जी

जा ए भकचोन्हर: डॉ. जयकान्त सिंह 'जय'