पढ़इबs का घंटा: हरेश्वर राय



मोंछ सफाचट बा त मुंड़इबs का घंटा
आँखि बिया कानी लड़इबs का घंटा।

मंगरुआ दुआरे चढ़ि झोंके रोज गारी
लऊरि ना पनही तड़तड़इबs का घंटा।

माल लेके जात बाड़न सेठजी अकेले
पिस्तउलो त बा ना अड़इबs का घंटा।

जाड़ा में पाहुनजी के होई जब आमद
राजाई में सइ छेद ओढ़इबs का घंटा।

ना पोथी ना पतरा ना मानस ना गीता
लइकन के क्लास में पढ़इबs का घंटा।
हरेश्वर राय, सतना, म.प्र.

टिप्पणियाँ

लोकप्रिय पोस्ट

मुखिया जी: उमेश कुमार राय

जा ए भकचोन्हर: डॉ. जयकान्त सिंह 'जय'