जा ए भकचोन्हर: डॉ. जयकान्त सिंह 'जय'



जा ए भकचोन्हर, तोहरा बात बुझात नइखे ?

ई 'भकचोन्हर' सब्द बिहार का राजनीति में हल्फा उठा देले बा। सब्दन के सटीक प्रयोग के लेके हम त बड़का भइया माननीय लालू प्रसाद यादव जी के गुनगान करे से ना थकीं। ई एके सब्दवा यू. पी. - बिहार का जनता के जना-जगा दिहलस कि लालू जी निरोग बाड़ें आ बहरी आ गइल बाड़ें। कांग्रेसी लोग उनका पर बमकल बा त कुछ भकुरन के भक भुला गइल बा। भाकुर के बहुबचन भकुरन। भाकुर मतलब उल्लू होला। अँजोर में एकर भक मतलब बुद्धि हेरा जाला आ उहो दिसा हीन उड़ान भरे लागेला। इहे हाल भादूर/बादूर मतलब चमगादड़ो के होला। अब आईं ए भकचोन्हर सब्द पर। ई भक आ चोन्हर दू सब्द का मेल से गजब खेल करेला। भक के मतलब होला बुद्धि। वाक्य प्रयोग से समुझीं - 'झट से हमार भक खुल गइल' माने हमार तुरते बुद्धि खुल गइल। आ चोन्हर मतलब चक्षु चाहे चोख (आँखि खातिर बंगला के सब्द) के अन्हराइल भा चोन्हिआइल। एह तरह से एकर अर्थ-अभिप्राय होला - ऐन वक्त पर अकिल गुम हो गइल। बुरबकाही के सिकार भइल। बुद्धि के चिहउनी लागल। देस, काल, परिवेस आ परिस्थिति के हिसाब से सही फैसला ना ले पावे वाला आदमी खातिर भकचोन्हर सब्द के बेवहार होला। ई भोजपुरी लोक के ठेठ सब्द ह। भकचोन्हर सब्द के वाक्य-प्रयोग देखीं - ठोकर लगला पर - भकचोन्हर बाड़ऽ? सुझल ह ना कि आगे ठोकर बा? भकचोन्हर बाड़ऽ? लउकत नइखे ?
सम्प्रति:
डॉ. जयकान्त सिंह 'जय'
प्रताप भवन, महाराणा प्रताप नगर,
मार्ग सं- 1(सी), भिखनपुरा,
मुजफ्फरपुर (बिहार)
पिन कोड - 842001

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट

मुखिया जी: उमेश कुमार राय

मोरी मईया जी