बान्हि दे माई तिलवा: बिमल कुमार



काटे खातिर पिलिया धउरे
भिरी ना आवे पिलवा।
खाइब खियाइब हम बझाइब
बान्हि दे माई तिलवा।

नइखे ओकरा सुटर टोपी
खूब सातावे जाड़ा।
कूं-कूं कूं-कू रोज करेला
रहेला रोवाँ खाड़ा।
दुबर बा त छपले बाड़ं सन
आँखि कान अँठई ढिलवा,
खाइब खियाइब हम बझाइब
बान्हि दे माई तिलवा।

ठंढा ठंढा हवा बहेला
टोपी सुटर पहिरा दे।
गरम-गरम रोटी तरकारी
बना-बना के खिया दे।
दे दे माई जाके खिया दी
ई रोटिया फाजिलवा,
खाइब खियाइब हम बझाइब
बान्हि दे माई तिलवा।

हितवो मितवो लोभ में परि के
आजु क देता गदारी।
रही निभावत मुवला तक ई
हमनी संघे इयारी।
देला से खाली ना होई
अन-धन भरल कोठिलवा,
खाइब खियाइब हम बझाइब
बान्हि दे माई तिलवा।

   सम्प्रति:

विमल कुमार
ग्राम +पोस्ट - जमुआँव, थाना- पीरो
जिला- भोजपुर,  आरा (बिहार)

टिप्पणियाँ

लोकप्रिय पोस्ट

मुखिया जी: उमेश कुमार राय

जा ए भकचोन्हर: डॉ. जयकान्त सिंह 'जय'