खतम बा: हरेश्वर राय

 

बसंत के बहार खतम बा
नदिया के धार खतम बा
मन में भरम जिंदा बड़ुए
पाँख के संसार खतम बा।
हरेश्वर राय, सतना, म.प्र.

टिप्पणियाँ

लोकप्रिय पोस्ट

मुखिया जी: उमेश कुमार राय

जा ए भकचोन्हर: डॉ. जयकान्त सिंह 'जय'