एगो भोजपुरी गजल: उमेश कुमार राय

रउर निगाह से गिरनी त होश का बड़ुए।
बनल साक्षी अंखिया त दोष का बड़ुए।।

खूब तजूरत के बाद रउआ के पइले रहनी।
रउए हमरा के भुलवनी त रोष का बड़ुए।।

हाट बाजार अंगुरी धइके घुमल रहनी।
हाथ-बांही धरे के बेरी होश का बड़ुए।।

जवना प अगरा के उतान रहत रहनी।
तवन गुमान हेराइल त जोश का बड़ुए।।

एक मुसुकी प रउआ जियत मरत रहनी।
अब राउर जहर भरल मुसुकी त बड़ुए।।

उमेश कुमार राय
ग्राम+पोस्ट- जमुआँव
थाना- पिरो
जिला- भोजपुर, आरा (बिहार)

टिप्पणियाँ

लोकप्रिय पोस्ट

मुखिया जी: उमेश कुमार राय

मोरी मईया जी

जा ए भकचोन्हर: डॉ. जयकान्त सिंह 'जय'