लोगवा मुँह फेरि के हँसे ओह मक्कार प


मुखिया चढ़ल बाड़न चनरा के कापार प
भों भों करत फिरे उखी में सियार प ना।

लमहर कुरुता बा सिअववले
ओह प भईंसा बा बनववले
खुरिआ पटकत फिरे चउक पर बाजार प
भों भों करत फिरे उखी में सियार प ना।

देसी दिन दिन भर डकरत बा
दिनभ अकर बकर फेंकरत बा
रहि रहि टूटत बाटे नेमुआ के आँचार प
भों भों करत फिरे उखी में सियार प ना।

चनरा चचिया के घर बइठे
आपन आठों अंग ऊ अंइठे
लोगवा मुँह फेरि के हँसे ओह मक्कार प
भों भों करत फिरे उखी में सियार प ना।
हरेश्वर राय, सतना, म.प्र.

टिप्पणियाँ

लोकप्रिय पोस्ट

मुखिया जी: उमेश कुमार राय

मोरी मईया जी

जा ए भकचोन्हर: डॉ. जयकान्त सिंह 'जय'

भोजपुरी कहानी का आधुनिक काल (1990 के बाद से शुरु ...): एक अंश की झाँकी - विष्णुदेव तिवारी

डॉ. बलभद्र: साहित्य के प्रवीन अध्येता - विष्णुदेव तिवारी